International Affairs

दुनिया की हर हलचल पर गहरी नज़र

112 Posts

6 comments

World Focus


Sort by:

Page 1 of 1212345»10...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: rafe rafe

ऐसा लगता है इस आलेख को पढ़कर की प्यार करने के बाद ही कोई राजनीती में आ सकता है और फिर उसको अकेलापन का दंश झेलना पड़ता है और जितने उदहारण इस लेख में गिनवाये गए हैं वे सभी नेहरु गाँधी परिवार से सम्बंधित हैं और आज देश पर राज भी वही राज परिवार ही कर रहा है जब २००४ का लोकसभा चुनाव हुवा और कांग्रेस पार्टी बहुमत में आई बीजेपी की करारी हार हुयी वे तो इंडिया सयिनिंग के नारे में उलझे रह गए और अपनी पार्टी को ओवर इस्टीमेट कर लिए इसलिए ही उनकी हार हो गयी वैसे भी आजादी के ६६ वर्ष पूरे हुए हैं उसमें से ५२ वर्ष तो इस देश पर कांग्रेस ही काबिज रही है और जब भी कांग्रेस पार्टी सत्ता से दूर रहती है देश को चलाने वाली दूसरी पार्टी को ज्यादा टिकने नहीं देती एक अटल बिहारी वाजपयी ही ६ वर्ष टिक गए थे चुनाव फिर होने वाला है और कोई कुछ भी कयास लगता रहे सत्ता फिर से कांग्रेस पार्टी के हाथों ही आएगी २००४ में ही अगर कांग्रेस ने लोगों की न सुनते हुए सोनिया गाँधी को पी एम् बनाये होते तो २००९ का चुनाव तो वे जीतते ही यह सब जो घोटाले का पर्दाफाश जो हुवा वह भी करने का कोई साहस नहीं करता आखिर सोनिया जी उसी हिटलरशाही वाले परिवार की सदस्य हैं .अतः प्यार के बाद राजनीती और फिर अकेलापन लेकिन शानदार अकेलापन इतने बड़े देश पर राज करने का सुख क्या कम है? भगवान ऐसा अकेलापन सबको देवे की सबके साथ भी रहे और अकेला कहलाये और राजा कहलाये

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey

ये बड़े ख़ुशी की बात है की पाकिस्तान असेम्बली में एक गैर मुस्लिम समुदाय के सिख नेता रमेश सिंह अरोड़ा चुनकर आये अब जरुर उम्मीद की जा सकती है की पाकिस्तान में गैर मुस्लिमों पर होने वाले जुल्म में कम्तायी आएगी और और हिन्दू एवं सिख अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों के जीवन में भी बेहतरी दिखाई देगी पाकिस्तान की योजनाओं में उनके लिए भी कुछ करने की उम्मीद जागेगी मैं अरोड़ा जी को तहे दिल से बधाई देता हूँ और जिस तरह वे जीतकर असेम्ली में आयें हैं अपने कार्यकाल में कुछ ऐसा करें जो औरों के लिए मिशाल बने और दोनों देश हिंदुस्तान एवं पाकिस्तान के लोगों में आपसी भाईचार बढे निर्दोष लोगों की निर्मम हत्याएं रुके आतंवादियों को भी समाज के मूल धारा में जोड़ने के लिए पाकिस्तान सरकार द्वारा भी कदम उठाये जाएँ क्यूंकि हिंसा से किसी का कोई फायदा नहीं होने वाला है

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey




latest from jagran