blogid : 14887 postid : 879220

ऐसे समय में भी नेपाल में ये क्या कर रहे हैं धर्म के ठेकेदार

Posted On: 1 May, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इसे धर्मांधता नहीं कहा जा सकता. यहां कहीं भी धर्म नहीं है. नेपाल भूकंप के बाद यह बस कुछ बानगी है जो दिखाती है कि हमारी सोच किस युग की है. इंसान भले ही दावा करे कि वह भौतिक रूप से 21वीं शताब्दी में पहुंच चुका है पर मानसिक रूप से वह मध्ययुगीन संस्कृति में ही जी रहा है. भूकंप ने ना मंदिरों को बख्शा, न चर्च को और ना हीं मस्जिदों को, पर इंसान है कि इतनी बड़ी मानवीय त्रासदी के बीच धार्मिक मान्यताओं और प्रतीकों में उलझा हुआ है.


nepalquake


अभी पाकिस्तान द्वारा राहत सामग्री में बीफ मसाला भेजने का विवाद थमा ही नहीं थी कि क्रिश्चियन मिशनरी द्वारा राहत सामग्री में बाइबिल भेजने से फिर हो-हल्ला मचने लगा है. नेपाल एक हिंदू बहुसंख्यक देश है. नेपाल में पाकिस्तान द्वारा बीफ मसाला भेजना एक गलती थी या जानबूझकर किया कृत्य यह तो नहीं कहा जा सकता पर इसपर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने अपनी सफाई देकर मामले को शांत करने की कोशिश जरूर की. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता तसनीम असलम ने इस मामले को तूल देने के लिए भारतीय मीडिया को दोषी करार दिया.


Read: मानव जीवन एक विनाश में प्रवेश करेगा


क्रिश्चियन मिशनरी द्वारा बाइबिल भेजे जाने पर प्रतिक्रिया देते हुए नेपाली प्रधानमंत्री सुशील कोइराला ने ठीक ही कहा कि, “इस समय नेपाल को भोजन, पानी और सहायता करने वाले हाथों की जरूरत है, न की बेस्ट सेलर किताबों की.” क्रिश्चियन मिशनरी के इस भोलेपन पर यकीन करना मुश्किल है कि इस कृत्य के पीछे उनका मकसद भूकंप पीड़ितों का धर्मांतरण कराना कतई नहीं था.


pak beaf masala 2


अलग-अलग धर्मों के ठेकेदार बस यहीं नहीं रुके. विनाश के ऐसे क्षण में भी वे यह शेखी बघारना नहीं भूलते की उनके देवता कितने चमत्कारी हैं. इत्तेफाक से या फिर अच्छे स्थापत्य कला के कारण काठमांडू का पशुपतिनाथ मंदिर को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा. इस इत्तेफाक को हिंदू धर्म के कुछ हिमायती और मीडिया का एक वर्ग यह साबित करने पर तुल गया कि यह चमत्कार पशुपतिनाथ या शंकर जी का है. यह दावा करना कितना बेतुका है कि शंकर जी ने अपना मंदिर बचा लिया और सारे देश के घर और मंदिर को ढह जाने दिया. यह 21वीं शताब्दी है. थोड़ी तो वैज्ञानिक बुद्धि पैदा करो.


Read: प्रकृति के इस सौंदर्य का विनाश निश्चित है


मीडिया के एक वर्ग ने तो पूरी तरह भूगर्भीय कारणों से आने वाले भूकंप के पीछे धार्मिक कारण ढ़ूंढ लिया. इस वर्ग ने यह दावा करने में देर नहीं लगाई कि नेपाल में चलने वाली पशुबलि की परंपरा ही भूकंप आने के पीछे कारण है. गौरतलब है कि नेपाल गढ़मई मेले में पशुओं की सामूहिक बलि दी जाती है. शक्ति की देवी गढ़मई के सम्मान में सामूहिक पशुबलि का यह त्योहार हर पांच साल में मनाया जाता है जिसमें लाखों पशुओं की बलि चढ़ाई जाती है. जानवरों की इस संख्या में हत्या किए जाने को मूर्खता के सिवा कुछ नहीं कहा जा सकता पर भूकंप के लिए इस प्रथा को जिम्मेदार ठहराना मूर्खता की हद है.


nepal 1


अच्छा होता कि गौतम बुद्ध की जन्मस्थान वाले नेपाल में संकट के इस घड़ी में धर्मों के ठेकेदार अपने-अपने धर्म को बचाने के बजाए मानवता को बचाने की कोशिश करें. इंसानी जान, इंसानों द्वारा बनाए गए धर्मों से कहीं अधिक कीमती हैं. Next…


Read more:

भगवान की जगह चमगादड़ों की पूजा!!

दुनिया के विनाश की चेतावनी देता एक और सबूत !!

लंदन के विनाश का कारण बन सकता है एक कौवा




Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
May 1, 2015

जय श्री राम मिशनरीज बिना धर्म परिवर्तन के कोई काम नहीं करते ये ही पोप का एजेंडा है.क्या सेवा बिना धर्मान्तरण नहीं हो सकता?मद्रास में आये सुनामी के वक़्त भी कुछ मामले सामने आये थे जहां मुसीबत से घिरे लोगो को मदद धर्म परिवर्तन पर करने के बाद की थी.ये धर्म नहीं धंधा है.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran