blogid : 14887 postid : 1069672

हेलमेट पहनाकर परीक्षाओं में ऐसे रोकी गई नकल

Posted On: 28 Aug, 2015 मस्ती मालगाड़ी में

Shakti Singh

  • SocialTwist Tell-a-Friend

परीक्षाओं में नकल की बात जब छिड़ती है तो दीमाग में वह तस्वीर उभरने लगती है जिसमें छात्रों के अभिभावक और सगे-संबंधी उंची-उंची इमारतों पर चढ़कर प्रशासन के नाक के नीचे नकल की पर्चियां क्लास रूम में पहुंचाते हैं. बिहार के हाजीपुर जिले की वह तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी.


cheating-thailand


बदलते दौर में जहां शिक्षा का व्यावसायीकरण बढ़ा है वहीं छात्रों में नकल को लेकर तरीकों में इजाफा भी हुआ है. तकनीक के इस दौर में परीक्षाओं में नकल करने के साधन इतने बढ़ चुके है जिस पर रोक लगाना परीक्षा निरीक्षक के लिए एक चुनौती जैसा है.


Read: अपने देश के गरीब लोगों के लिए इस दौलतमंद ने बनवाई नकली तजमहल


image10


वैसे परीक्षाओं में नकल करना कोई आज के समय की बात नहीं है. अठारहवीं शताब्दी में स्कूली परीक्षाओं में नकल को रोकने के लिए ‘एंटी चीटिंग हैट्स’ का निर्माण किया गया था. ये एक तरह की टोपी है जिसे पहनने के बाद विद्यार्थी केवल डेस्क पर रखे अपने अंसरशीट को ही देख सकता है. अगर गलती से उसने अपना सर हिलाया तो दूर से परीक्षा निरीक्षक को पता चल जाता था कि फलाने डेस्क पर कुछ हरकत हो रही है. उपर तस्वीर में देख सकते हैं कि नकल रोकने का यह तरीका कितना अजीबोगरीब है.


Read: जब गणित का तेज विद्यार्थी दुनिया का महान क्रिकेटर बना


Cheating-helmet


हालांकि यह जानकर आपको हैरानी होगी कि यह अजीबोगरीब तरीका आज भी देखने को मिल जाता है. कुछ साल पहले थाइलैंड में बैंकाक के एक यूनिवर्सिटी में नकल को रोकने के लिए ‘एंटी चीटिंग हेलमेट’ पहना था. इस हेलमेट को एक विद्यार्थी ने ही बनाया था….Next


Read more:

चाणक्य नीति: छात्रों के लिए इन चीजों से दूर रहना ही है बेहतर

बाराती हुए लेट तो हर मिनट 100 रुपये के हिसाब से देना पड़ सकता है जुर्माना!

70 वर्ष की उम्र में परीक्षा देकर किया अपने अधूरे सपने को साकार




Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran