blogid : 14887 postid : 1128541

इस गाँव के हर घर में हैं कैंसर रोगी, कारण जानकर होंगे हताश

Posted On: 10 Jan, 2016 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कैंसर से जूझने वालों की तादाद बीते दशकों के मुकाबले बढ़ी है. कैंसर ने अपने विस्तार के लिये सारी अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को तोड़ दिया है. जर्मनी के उत्तर पश्चिमी क्षेत्र में एल्बे नदी के समीप वीवैल्सफ्लैथ नाम का एक गाँव है जहाँ कैंसर ने लगभग हर घर को अपने चपेट में ले लिया है.


village of germany


करीब 1,500 की आबादी वाले इस गाँव में कैंसर का फैलाव औसत से 50 प्रतिशत अधिक है. इस गाँव में कैंसर के बीज वर्ष 1998 में ही पड़ गये थे. ग्रामीणों के लिये इससे ज्यादा बुरी बात यह है कि प्रशासन के लिये वो उपेक्षित हैं. इस गाँव में कैंसर की जो प्रकृति मिली है उसे किसी विशेष दायरे में बाँध कर नहीं देखा जा सकता. यहाँ स्तन, फेफड़े, गर्भाशय आदि के कैंसर रोगी मिले हैं. माना जाता है कि इस गाँव के कैंसर के चपेट में आने का कारण नजदीक लगे तीन नाभिकीय संयंत्र हैं.


Read: इस नामी स्कूल में लड़के-लड़कियों को दी गई एक मीटर दूरी रखने की सख्त हिदायत


तीन नाभिकीय संयंत्रों के अलावा यहाँ एक शिपयार्ड भी है जहाँ जहाजों पर अत्यधिक जहरील स्प्रे किये जाते हैं. इसके कारण इस गाँव के ग्रामीण चिंतित हैं लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है. कैंसर कोशिकाओं के इतने बड़े स्तर पर प्रसार से विशेषज्ञ भी किंकर्तव्यविमूढ़ हैं. इस विषय पर विशेषज्ञों द्वारा कई शोध किये गये. सारे कारकों जैसे नाभिकीय संयंत्र, शिपयार्ड पर शोध के अलावा कैंसररोगी की जीवनशैली पर भी अध्ययन किया गया जिसमें किसी नतीजे पर नहीं पहुँचा जा सका है. वहाँ के महापौर अपनी दो बीवियों को कैंसर के कारण खो चुके हैं. उनकी माँग है कि इस पर बर्लिन आयोग अध्ययन करे और मामले की तह तक पहुँचने की ठोस कोशिश करें.Next….


Read more:

कुतुब मीनार की तरह दिल्ली में है एक और मीनार जिसे बनवाया शाहजहां ने

44 दिन की उम्र से ही यह बच्ची संसद के हर सत्र में हो रही है शामिल

फुटपाथ पर पत्थर से बंधे इस बच्चे की कहानी झकझोर देगी आपको




Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran