blogid : 14887 postid : 1138133

इस जगह के निवासी नहीं करते पेट्रोल का इस्तेमाल, ऐसे चलाते हैं कार

Posted On: 11 Feb, 2016 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहते हैं कि हाथी खरीदना आसान नहीं है लेकिन उसे पालना मुश्किल है. ये कहावत मंहगी- मंहगी कारों पर भी फिट बैठती है. जिन्हें एक बार खरीदने के बाद उम्र भर पेट्रोल भरवाने की मशक्कत उठानी पड़ती है. वहीं पेट्रोल की कीमतें भी किसी से छुपी नहीं हैं. हर दिन पेट्रोल के दामों में इजाफा होना आम बात होती जा रही है. लेकिन यूक्रेन के लोगों ने इस परेशानी का भी एक नायाब हल ढूंढ़ निकाला है. दरअसल यूक्रेन के कार मालिक अपनी कारों को लकड़ियों से बने ईंधन से चला रहे हैं. हांलाकि कुछ लोगों का मानना है कि ये तकनीक कोई नई नहीं है.



car with fuel

Read : तुमने मेरी कार ओवरटेक की, अब मैं तुम्हारा करूंगा रेप’

प्रथम  विश्वयुद्ध के बाद जब पेट्रोल और दूसरे ईधनों की कमी हो गई थी तो लोगों ने ऐसी ही तकनीक का इस्तेमाल करके अपनी कारों और युद्ध में इस्तेमाल की जाने वाली गाड़ियों को चलाया था. लेकिन समय के साथ, कार के पीछे लगाए जाने वाले इस खास तरह के यंत्र में बदलाव जरूर आया है. ये कार मालिक अपनी कारों में लकड़ी से बने बर्नर और बॉयलर लगा लेते है. जो ‘केमिकल रिएक्शन’ करके ईंधन का निर्माण करते हैं, जिससे कार या कोई भी छोटा वाहन आसानी से चल सकता है.



wood fuel

Read : आग उगलती है यह बिल्डिंग, पिघल गई पास खड़ी एक कार

यूक्रेन में इन दिनों पेट्रोल बहुत मंहगा हो चुका है. जिसकी वजह से लोग ये नया तरीका अपना रहे हैं. दूसरी तरफ कार के पीछे लगने वाले इस ईंधन (फ्यूल) बनाने वाले यंत्र की मांग बढ़ गई है. जिससे लोगों में इस  उपकरण को बनाने, सीखने का क्रेज बढ़ गया है. जिससे रोजगार में इजाफा होने के साथ पर्यावरण में भी काफी सुधार हो रहा है…Next

Read more :

ये है दुनिया की पहली कार वेंडिंग मशीन जिससे होगी कारों की डिलीवरी

इतने कैश के साथ कार खरीदने पहुंचा यह व्यक्ति, हैरान रह गए कर्मचारी

आपकी कार की स्पीड के साथ इस सड़क पर बजता है राष्ट्रगान



Tags:                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran