blogid : 14887 postid : 1139392

20 लाख टन से अधिक गिराए गए बम, आज भी दिखते हैं यहां हर जगह बम

Posted On: 16 Feb, 2016 Infotainment में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वियतनाम  युद्ध  इतिहास  का  एक  दर्दनाक  सच  है. यह युद्ध  1 नवंबर  1955  से  30 अप्रैल  1975  तक  20  वर्षों तक चला. वास्तव में, यह सैन्य संघर्ष था- जिसमें  एक तरफ  उत्तरी  वियतनाम  के  साथ  चीन  की  सेना थी, वहीं दूसरे पक्ष में दक्षिण वियतनाम के  साथ  अमेरिका  की  सेना  खड़ी  थी. उत्तरी वियतनाम, अमेरिका  की  वायु – मारक  क्षमता से  भलीभाँति  परिचित  थी  फिर  भी  उसने “लाओस” (एशिया का दक्षिण पूर्वी देश ) की धरती  को युद्ध क्षेत्र  निश्चित  किया.  जो  इस  युद्ध  का  सबसे  अधिक  हानिप्रद  निर्णय  रहा  जिसके फलस्वरूप  अमेरिका  ने  सन  1964  से  1973  तक  लगातार  नौ  साल  तक  “लाओस”  पर  20  लाख  टन  से  अधिक  बम गिराये जिसने “लाओस” को बारूद  के  ढेर  में  तब्दील  कर  दिया. वियतनाम युद्ध में जिस तरह से अमरीका ने लाओस के ऊपर बम गिराए उसके सबूत आज भी मिलते हैं. लोग आज भी अनएक्सप्लोडेड बम का प्रयोग रोजाना के लाइफ में कर रहे हैं.


pic03


इस  भयंकर  हमले  ने  लाओस  की  तस्वीर ही बदल डाली, चारों  तरफ तबाही, दर्द  की चीखें,  दिल  को  दहला  देने वाला  नजारा था. इस  लड़ाई  में 58000 सैनिक मारे गए और 3 लाख निर्दोषों को  भी अपनी  जान से  हाथ  धोना  पड़ा. अंततः सभी जानते हैं ऐसे युद्धों का परिणाम सिर्फ तबाही होती, जिसका भुगतान आने वाली अनेक पीढ़ियों को करना  पड़ता है.


Read: 1972 की इस प्रसिद्ध तस्वीर में क्या था ऐसा, 43 साल बाद इसमें मौजूद लड़की ने बताया


image96


इस  युद्ध  के  दौरान ऐसे अनेक  बच्चों  ने  जन्म  लिया  जिनकी  माँ  वियतनाम  से  थी और पिता अमेरिकन सैनिक. युद्ध समाप्ति पर, दो बच्चियों को सड़को पर भटकते  पाया गया , उनसे पूछे  जाने  पर  मालूम  चला  वो  माता – पिता शब्द  से  भी  परिचित  नहीं  हैं.  इंसानो से  अधिक वो  बम  से  परिचित  हैं, बम और मिसाइलों देखकर उनको  तनिक  भी आश्चर्य  नहीं होता. इस स्थिति  में  कुछ  बच्चों  को  अनाथ  -आश्रम का सहारा  मिला जिसकी  मदद से  कुछ बच्चे अपने  अभिवावकों से मिलने मौका मिला.


pic02


युद्ध के परिणाम स्वरुप लाओसवासी बेघर और बिन परिवार रहने को मजूबर हो गए. शारारिक और मानसिक रूप से भी वहाँ के लोग प्रभावित हुए कोई अपाहिज हो गया तो किसी ने आँखों की रौशनी गँवा दी. बर्बादी के इस नाजुक दौर में फ्रांस ने दरियादिली दिखाते हुए  वियतनाम के बच्चों को फ्रांस की नागरिकता दी , जिसके चलते अनेक अभिवावक सामने आये और ऐसे बच्चों को अपनी संतान के रूप में स्वीकार किया.  अनेक लोगों के उजड़े हुए आशियाने  फिर से वापस मिल गए और नये वातावरण में बीता हुआ कल भुलाकर शान्ति का जीवन जीने का प्रयास में जुट. नयी उम्मीदें आँखों में चमकने लगी, तबाही और बर्बादी का मंजर देखने वाली आँखें सपने देखने लगी. भविष्य में विश्व  के समस्त देशों को युद्ध पर पूर्ण विराम लगते हुए मित्रता का संचार करना होगा...Next


Read more:

अगर कर्ण धरती को मुट्ठी में नहीं पकड़ता तो अंतिम युद्ध में अर्जुन की हार निश्चित थी

सालों से चल रहा है यहां युद्ध, अब तक मर चुके हैं ढ़ाई लाख लोग

रेलवे ट्रैक पर ही रहते हैं लोग, नहीं हुआ आज तक कोई हादसा




Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran