blogid : 14887 postid : 1142219

इस 4 साल के बच्चे को मिली उम्र कैद - आरोप 4 कत्ल, 8 कत्ल करने का प्रयास और हिंसा!

Posted On: 26 Feb, 2016 Hindi News में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चार साल के इस बच्चे को पता भी नहीं है कि ‘लाइफ सेंटेंस’ (उम्र कैद की सजा) किस बला का नाम है और उसके ऊपर चार कत्ल, आठ कत्ल करने का प्रयास और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाकर उम्र कैद की सजा सुना दी गई.


image9636

यह मामला मिस्र का है जहां की कोर्ट ने चार साल के अहमद मंसूर अली कुरानी को उस दंगे में शामिल होने के लिए उम्र कैद की सजा सुना दी जब वह 16 महीने का था.


यह मामला 2014 का है जब मिस्र में अपदस्थ राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के समर्थन में कई लोगों ने हिंसा किया था. इसमें कई लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा था. अधिकारियों के मुताबिक इस दंगे में 100 से भी ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया था. ये सभी मुस्लिम ब्रदरहूड के लिए काम करते थे जो मुर्सी की पार्टी है.


Read:  फुटपाथ पर पत्थर से बंधे इस बच्चे की कहानी झकझोर देगी आपको


हालांकि जब मिस्र के इस कोर्ट को पता चला कि इन 100 लोगों में उन्होंने चार साल के बच्चे को भी आजीवन कारावास की सजा सुना दी है, तब तक देर हो चुकी थी. कोर्ट को इस गलती के लिए शर्मिंदगी झेलनी पड़ी.


दरअसल यह पूरी घटना एक जैसे नाम की वजह से घटी. कोर्ट 16 साल के एक युवक को हिंसा फैलाने के आरोप में उम्र कैद की सजा सुनाने वाली थी लेकिन जन्म प्रमाणपत्र न देखने की वजह से यह गलती हुई. चार साल के बच्चे के वकील ने जब कोर्ट को जन्म प्रमाणपत्र दिया तब जाकर कोर्ट को भरोसा हुआ.


यह केस इस बात का प्रमाण है कि मिस्र में किस कदर अराजकता फैली है, जहां कोर्ट और पुलिस प्रशासन किसी को सजा देने से पहले जरूरी तथ्यों की तहकीकात भी नहीं करती…Next


Read more:

आपका वजन ज्यादा है तो मासूम बच्चों के अजीबोगरीब सवालों का जवाब देने के लिए ‘रेडी’ रहिए

65 वर्षीय गर्भवती के पहले से हैं 13 बच्चे और अब बनेगी 17 बच्चों की मां

शादी से पहले बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है..लेकिन बॉलिवुड सिलेब्स की बात ही कुछ और है




Tags:         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran